Create better lessons quicker
रहिमन धागा प्रेम का, मत तोरो चटकाइ l टूटे से फिर ना जुरै, जुरै गाँठ परि जाइ l, रहिमन देखि बड़ेन को, लघु न दीजिए डारि l जहां काम आवे सुई, कहा करै तरवारि l, रहिमन वे नर मर चुके, जे कहुँ माँगन जाहिं l उनते पहिले वे मरे जिन मुख निकसत नाहिं , तरुवर फल नहिं खात हैं, सरवर पियहिं न पान l कहि रहीम परकाज हित, संम्पति सँचहिं सुजान l, बसि कुसंग चाहत कुसल, यह रहीमअफ़सोस l महिमा घटी समुद्र की, रावण बस्यो पड़ोस l.

Class 7-दोहा दशक - रहीम जी

Switch template

Interactives

Leaderboard

Random cards is an open-ended template. It does not generate scores for a leaderboard.

Similar activities from Community

Switch template

Interactives